आयु वर्ग के आधार पर भेदभाव न हो, सभी का हो नि:शुल्क कोविड टीकाकरण: अशोक गहलोत - SARKARI JOB INDIAN

आयु वर्ग के आधार पर भेदभाव न हो, सभी का हो नि:शुल्क कोविड टीकाकरण: अशोक गहलोत

[ad_1]
[ad_1]

आयु वर्ग के आधार पर भेदभाव न हो, सभी का हो नि:शुल्क कोविड टीकाकरण: अशोक गहलोत

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (फाइल फोटो).

जयपुर: राजस्‍थान के मुख्‍यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने बुधवार को कहा कि पूरे देश में कोरोना वायरस प्रतिरक्षण टीकाकरण (Coronavirus vaccination) नि:शुल्क होना चाहिए. उन्होंने उम्मीद जताई कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 18 साल से अधिक आयु के लोगों के लिए नि:शुल्क टीकाकरण की घोषणा करेंगे. गहलोत ने ट्वीट किया, ‘‘कोरोना टीकाकरण पूरे देश के लिए नि:शुल्क होना चाहिए. केन्द्र सरकार को आयुवर्ग के आधार पर जनता में भेदभाव नहीं करना चाहिए. केन्द्र सरकार ने निजी क्षेत्र को टीका लगाने की अनुमति दी है इसलिए सक्षम लोग स्वयं ही वहां पैसे देकर टीका लगवा सकेंगे. बाकी सभी के लिए केन्द्र सरकार को निशुल्क वैक्सीन उपलब्ध करवानी चाहिए.”

यह भी पढ़ें

मुख्यमंत्री ने कहा,‘‘ महामारी की यह दूसरी लहर बेहद खतरनाक है जिसमें संक्रमण दर और मृत्यु दर दोनों बहुत अधिक हैं. रोगियों को दवाई और ऑक्सीजन की पूर्ति तक समय पर नहीं हो पा रही है. विशेषज्ञों का मानना है कि महामारी की तीसरी लहर भी आ सकती है. इन हालातों की फिर पुनरावृति ना हो इसके लिए बेहद जरूरी है कि सभी को जल्द से जल्द टीका लगना चाहिए.”

गहलोत ने लिखा,”इसके लिए मैं उम्मीद करता हूं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 18 वर्ष से अधिक आयुवर्ग के लोगों के लिए भी नि:शुल्क टीकाकरण की घोषणा करेंगे जिससे सभी नागरिकों को वायरस से सुरक्षा मिल सकेगी.”

इससे पहले गहलोत ने देश में ऑक्‍सीजन व दवाओं की कमी से मौतों पर चिंता जताते हुए बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा और उनसे अपील की कि वे बंगाल में चुनावी रैलियां करने के बजाय चिकित्‍सा व्‍यवस्‍थाओं को ठीक करने पर ध्‍यान दें.

गहलोत ने ट्वीट किया, ‘‘ भारत ऑक्सीजन, दवाई व टीका उत्पादन के क्षेत्र में सबसे बड़े उत्पादक देशों में शामिल है. फिर भी देश में ऑक्सीजन एवं दवाइयों की कमी से मौतें होना दुर्भाग्यपूर्ण है. दुनिया के अन्य देशों में कभी इसके कारण मौतें नहीं हुई हैं.”

उन्‍होंने आगे लिखा, ‘‘मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी से फिर अपील करता हूं कि हालात बिगड़ते जा रहे हैं. कोरोना की भयावहता को देखते हुए बंगाल में रैलियां करना छोड़कर मेडिकल व्यवस्थाओं को ठीक करने पर ध्यान दें.”

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

[ad_2]
[ad_1]

Source link

Leave a comment