एनसीपी नेता शरद पवार को पेट में दर्द के बाद मुंबई के अस्पताल में भर्ती कराया गया  - SARKARI JOB INDIAN

एनसीपी नेता शरद पवार को पेट में दर्द के बाद मुंबई के अस्पताल में भर्ती कराया गया 

[ad_1]

एनसीपी नेता शरद पवार को पेट में दर्द के बाद मुंबई के अस्पताल में भर्ती कराया गया 

एनसीपी नेता शरद पवार के गाल ब्लैडर में समस्या है. (फाइल)

मुंबई: एनसीपी नेता शरद पवार (Sharad Pawar) को पेट में दर्द के बाद मंगलवार को मुंबई के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया. उन्हें वैसे बुधवार को भर्ती कराया जाना था, लेकिन पेट में दर्द के बाद उन्हें आज ही हास्पिटल ले जाया गया.  पवार ऐसे वक्त बीमार  हुए हैं, जब महाराष्ट्र विकास अघाड़ी की सरकार पर सियासी संकट मंडरा रहा है. मुकेश अंबानी केस, मनसुख हिरेन की हत्या और फिर 100 करोड़ रुपये वसूली के गंभीर आरोपों को लेकर सरकार घिरी है. महाराष्ट्र में बेकाबू होता कोरोना वायरस भी सबकी चिंता बढ़ा रहा है.

यह भी पढ़ें

विधानसभा चुनावों पर शरद पवार का दावा- ‘असम को छोड़ हर राज्य में हारेगी BJP’

80 साल के पूर्व केंद्रीय मंत्री को इंडोस्कोपी और सर्जरी (Endoscopy Surgery) के कारण 31 मार्च को एडमिट कराया जाना था, लेकिन पेट में दर्द की शिकायत के बाद उन्हें पहले ही अस्पताल ले जाना पड़ा. एनसीपी नेता नवाब मलिक (NCP Leader Nawab Malik) ने ट्ववीट किया कि पवार को ब्रीच कैंड हास्पिटल में भर्ती कराया गया है. मलिक ने पहले कहा था कि पवार के गाल ब्लैडर में दिक्कत है और उनके ऑपरेशन की जरूरत है.

पवार को रविवार दोपहर को पेट में कुछ दर्द महसूस हुआ था और चेकअप के बाद डॉक्टरों ने गाल ब्लैडर (Gall Bladder Stone) में पथरी पाई थी.  मलिक ने कहा कि पवार रक्त को पतला करने की दवाइयां ले रहे थे, जो इस बीमारी के पकड़ में आने के बाद बंद कर दी गई है.एनसीपी नेता के सारे कार्यक्रम भी स्थगित कर दिए गए हैं. पवार ऐसे वक्त अस्वस्थ हुए हैं, जब महाराष्ट्र विकास अघाड़ी की सरकार पर सियासी संकट मंडरा रहा है.

गौरतलब है कि महाराष्ट्र में मुकेश अंबानी केस में एपीआई सचिन वाजे की गिरफ्तारी, मनसुख हिरेन की हत्या के प्रकरण में जब पुलिस आयुक्त पद से परमबीर सिंह को हटाया गया तो भूचाल आ गया. परमबीर सिंह ने आरोप लगाया कि महाराष्ट्र के गृह मत्री अनिल देशमुख ने मुंबई में 100 करोड़ रुपये वसूली का निर्देश दे रखा था. इस प्रकरण के बाद एनसीपी पर देशमुख का इस्तीफा लेने का दबाव है. एनसीपी ने फिलहाल देशमुख को पद से हटाने के आरोपों से इनकार किया है.

[ad_2]

Source link

Leave a comment