कर्नाटकः कोविड मरीजों के लिए ‘आईसीयू ऑन व्हील्स’ और ‘ऑक्सीजन ऑन व्हील्स’ सुविधा शुरू - SARKARI JOB INDIAN

कर्नाटकः कोविड मरीजों के लिए ‘आईसीयू ऑन व्हील्स’ और ‘ऑक्सीजन ऑन व्हील्स’ सुविधा शुरू

[ad_1]
[ad_1]

कर्नाटकः कोविड मरीजों के लिए ‘आईसीयू ऑन व्हील्स’ और ‘ऑक्सीजन ऑन व्हील्स’ सुविधा शुरू

कर्नाटक में कोविड मरीजों के लिए ‘आईसीयू ऑन व्हील्स’ और ‘ऑक्सीजन ऑन व्हील्स’ सुविधा शुरू। (प्रतीकात्मक तस्वीर))

बेंगलुरु: कर्नाटक (Karnataka) राज्य सड़क परिवहन निगम (केएसआरटीसी) ने दूरस्थ इलाकों में कोविड-19 मरीजों (Covid-19 Patients) के उपचार में मदद करने के लिए बुधवार को ‘आईसीयू ऑन व्हील्स’ (ICU on wheels) और ‘ऑक्सीजन ऑन व्हील्स’ (Oxygen on wheels) नामक दो परियोजनाएं शुरू की. इन परियोजनाओं के तहत ऐसी बसों का प्रबंध किया गया है, जिनमें ऑक्सीजन प्रणाली, मरीज के रक्तचाप, ऑक्सीजन की मात्रा, ईसीजी एवं तापमान पर नजर रखने के लिए मॉनिटर, वेंटिलेटर, आपातकालीन चिकित्सा प्रणाली और जनरेटर प्रणाली की सुविधा है. 

कोरोना से ठीक होने के 3 महीने बाद लगवाएं वैक्सीन : केंद्र

परिवहन मंत्रालय का कार्यभार संभाल रहे उपमुख्यमंत्री लक्ष्मण सावदी ने कहा कि केएसआरटीसी ने 10 लाख रुपए की अनुमानित लागत पर इन बसों की व्यवस्था की है और परिवहन विभाग इसकी पूरी लागत वहन करेगा. उन्होंने बताया कि ऑक्सीजन की आपूर्ति करने वाली 12 से अधिक बसें पहले ही चलाई जा रही हैं. इनमें से दो बसों में एम्बुलेंस की तरह चिकित्सकीय उपकरण हैं.

जेएसडब्ल्यू ने कर्नाटक में हजार बिस्तरों वाला कोविड स्वास्थ्य केंद्र स्थापित किया

प्रमुख इस्पात कंपनी जेएसडब्ल्यू ने बुधवार को कर्नाटक के बेल्लारी जिले के तोरानागल्लू इलाके में ऑक्सीजन की सुविधा से लैस हजार बिस्तरों वाला कोविड स्वास्थ्य केंद्र खोला. मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा ने डिजिटल माध्यम से अस्पताल का उद्घाटन किया. कंपनी ने एक बयान में कहा, “यह देश के सबसे बड़े कोविड स्वास्थ्य सेवा प्रतिष्ठानों में से एक है जहां उसके स्टील कारखाने से खास 4.8 किलोमीटर लंबे पाइपलाइन से अस्पताल में मरीजों के इलाज के लिए चिकित्सीय ऑक्सीजन की सीधी आपूर्ति की जाएगी.”

Covaxin और Covishield की पहली-दूसरी डोज़ के बाद कितने लोग हो रहे पॉजिटिव? आंकड़े जारी

जेएसडब्ल्यू ने बताया कि स्वास्थ्य सेवा केंद्र का निर्माण केवल 15 दिनों में पूरा किया गया और यह बेल्लारी जिला प्रशासन की मदद से स्थापित किया गया है. बेल्लारी जिला प्रशासन तीन पालियों में काम करने वाले 700 कर्मचारियों की मदद से अस्पताल का प्रबंधन करेगा. इन कर्मचारियों में डॉक्टर/विशेषज्ञ, नर्स, अर्द्ध चिकित्साकर्मी, सुपरवाइजर और गैर चिकित्सा कर्मी शामिल हैं.

कर्नाटक में भी अब ब्लैक फंगस के मामले सामने आ रहे

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

[ad_2]
[ad_1]

Source link

Leave a comment