कश्मीर में स्टॉक खत्म होने के बाद वैक्सीनेशन करीब ठप, श्रीनगर में टीके नहीं लगे - SARKARI JOB INDIAN

कश्मीर में स्टॉक खत्म होने के बाद वैक्सीनेशन करीब ठप, श्रीनगर में टीके नहीं लगे

[ad_1]
[ad_1]

कश्मीर में स्टॉक खत्म होने के बाद वैक्सीनेशन करीब ठप, श्रीनगर में टीके नहीं लगे

श्रीनगर में कोरोना वायरस संक्रमण के मद्देनजर लॉकडाउन जारी है.

श्रीनगर: कश्मीर (Kashmir) में कोरोना वायरस (Coronavirus) के टीके लगाने (Vaccination) का सिलसिला रुक गया है. कई जिलों में शनिवार को वैक्सीनेशन शून्य होने की रिपोर्ट आई है. 1.4 करोड़ की आबादी वाले कश्मीर घाटी के 10 जिलों में 504 लोगों को ही टीके लगाए गए. राजधानी श्रीनगर जिले में शून्य टीकाकरण की सूचना है. आधिकारिक सूत्रों का कहना है कि इस क्षेत्र में वैक्सीन उपलब्ध नहीं है क्योंकि पिछले सप्ताह इसकी आपूर्ति नहीं की गई है.

यह भी पढ़ें

एक वरिष्ठ अधिकारी ने नाम न बताने की शर्त पर कहा, “हमें पिछले शनिवार को वैक्सीन का आखिरी स्टाक मिला था. अब वैक्सीन उपलब्ध नहीं है.”

जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने शनिवार को COVID-19 के मामलों और मौतों में भारी वृद्धि के बाद केंद्र शासित प्रदेश में लगाए गए लॉकडाउन को 24 मई तक बढ़ा दिया. कुछ आवश्यक सेवाओं को छोड़कर किसी को भी आने-जाने की अनुमति नहीं दी जा रही है. यह प्रतिबंध सोमवार को समाप्त होने वाले थे. सड़कों पर बैरिकेडिंग कर दी गई है और श्रीनगर शहर के अंदर और बाहर के रास्तों को सील कर दिया गया है. तालाबंदी को लागू करने के लिए पूरे क्षेत्र में बड़ी संख्या में सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है.

पश्चिम बंगाल में चुनाव ड्यूटी के लिए भेजे गए हजारों सैनिकों की वापसी के बाद कश्मीर में प्रतिबंधों को और कड़ा कर दिया गया है.

जम्मू और कश्मीर में शनिवार को कोरोना वायरस के 3,677  नए मामले सामने आए और वायरस संक्रमण से 63 लोगों मौतों हो गई. अब तक संक्रमण के कुल मामले 2.40 लाख हो चुके हैं और कुल 3,090 लोगों की मौत हो चुकी है.

अधिकारियों का कहना है कि जम्मू-कश्मीर में 28 लाख वैक्सीन डोज दी जा चुकी हैं. इनमें सुरक्षा बल और पुलिस शामिल है. अधिकांश सुरक्षाकर्मियों को दोनों डोज मिल चुकी हैं.

जम्मू और कश्मीर में 18 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लिए टीकाकरण भी नाम के लिए ही हुआ है. केंद्र शासित प्रदेश में 18 वर्ष से अधिक आयु वालों के लिए केवल दो टीकाकरण केंद्र हैं जिनमें एक दिन में केवल 300 डोज दिए जाते हैं. पिछले एक सप्ताह से वैक्सीन आपूर्ति ठप होने के बाद इसे भी रोक दिया गया है.

जम्मू में हालांकि बेहतर स्थिति है. यहां शनिवार को लगभग 14,000 लोगों को टीका लगाया गया, हालांकि यह नियमित टीकाकरण संख्या से बहुत कम है.

[ad_2]
[ad_1]

Source link

Leave a comment