कहीं दूषित ऑक्सीजन तो नहीं ब्‍लैक फंगस मामले बढ़ने का कारण!, विशेषज्ञों ने जताया अंदेशा - SARKARI JOB INDIAN

कहीं दूषित ऑक्सीजन तो नहीं ब्‍लैक फंगस मामले बढ़ने का कारण!, विशेषज्ञों ने जताया अंदेशा

[ad_1]
[ad_1]

कहीं दूषित ऑक्सीजन तो नहीं ब्‍लैक फंगस मामले बढ़ने का कारण!, विशेषज्ञों ने जताया अंदेशा

महाराष्‍ट्र में ही ब्‍लैक फंगस के 1500 से ज्‍यादा मरीज सामने आए हैं (प्रतीकात्‍मक फोटो)

मुंंबई: विदेशों में भी कोविड-19 का खूब प्रकोप रहा, खूब स्टेरॉइड का इस्तेमाल हुआ, लेकिन ब्लैक फ़ंगस के मामले हमारे ही देश में इतने ज्‍यादा क्‍यों हैं? यह सवाल इस समय ज्‍यादातर लोगों को मन में उठ रहा है. ब्‍लैक फंगस या Mucormycosis से महाराष्ट्र में 90 मौतें हो गई हैं. अब फ़ूड एंड ड्रग फ़ाउंडेशन और एक्‍सपर्ट्स ने सवाल उठाया कि क्या हम दूषित ऑक्सीजन और इसमें डिस्टिल्ड वॉटर की जगह नल के पानी का इस्तेमाल तो नहीं कर रहे, क्‍योंकि इससे भी ब्लैक फ़ंगस का ख़तरा बढ़ता है.  ब्लैक फ़ंगस के कारण  63 साल के किशोर पंजाबी की दायीं आंख निकालनी पड़ी है.वे शुगर पेशेंट हैं और कोविड से ठीक होने के 10 दिन बाद घातक म्युकोरमायकोसिस (Mucormycosis) का शिकार हुए.दो महीने बाद एक आंख गंवा कर ठीक हो पाए.

यह भी पढ़ें

मध्‍य प्रदेश में ब्‍लैक फंगस के 50 मामले, गरीब मरीजों के इलाज में शासन करेगा सहयोग 

सुश्रत हॉस्पिटल के ENT सर्जन डॉ प्रशांत केवले बताते हैं, ‘उनकी उस आँख का विज़न जा चुका था. आंख में फ़ंगस है, ये MRI में कन्फ़र्म किया. जिसकी वजह से हमने उनकी आंख निकालने और उस तरफ़ के सायनस के ऑपरेशन का फ़ैसला किया.’ महाराष्ट्र में म्युकोरमायकोसिस यानी ब्लैक फ़ंगस से 90 मौतें हुईं हैं जबकि इसके 1500 से ज़्यादा मरीज़ राज्य में हैं. ब्‍लैक फंगस के मामलों में वृद्धि के चलते ऑल इंडिया फ़ूड एंड ड्रग लाइसेंस होल्डर फ़ाउंडेशन ने सवाल उठाया है कि कहीं फ़ंगस के अचानक फैलाव की पीछे बड़ा कारण दूषित ऑक्सीजन या इसमें इस्तेमाल होने वाला पानी तो नहीं? उसने फ़ूड एंड ड्रग एड्मिनिस्ट्रेशन को लिखे खत में आशंका जताई है कि ऑक्सीजन की किल्ल्त के समय जब उद्योगों के लिए ऑक्सीजन बनाने वालों ने मेडिकल ऑक्सीजन बनाया तो नियमों पर अमल हुआ या नहीं? और उसकी पड़ताल हुई या नहीं? यही नहीं, घरों में दी जा रही ऑक्सीजन भी क्या डिस्टिल्ड वॉटर के साथ है?

CoviSelf Home Test Kit से अब खुद करें कोरोना जांच, दो मिनट में टेस्‍ट और 15 मिनट में रिजल्‍ट

मशहूर गेस्‍ट्रोएंट्रोलॉजिस्‍ट (Gastroenterologist) और जेन मल्‍टीस्‍पेशियालिटी हॉस्पिटल के डायरेक्‍टर डॉ. रॉय पाटनकर कहते हैं, ‘पश्चिमी देशों में जहां बहुत ज़्यादा कोविड था वहां भी इतना ब्लैक फ़ंगस नहीं था. हमारे यहां इसके होने के कई कारण हैं, क़िल्लत के कारण भारत में हम इंडस्ट्रियल ऑक्‍सीजन भी इस्तेमाल कर रहे हैं, जिसमें शायद प्यूरीफिकेशन पर्याप्‍त नहीं है. हम यहां ह्यूमिडिफ़ायड ऑक्‍सीजन देते हैं, बोतल में पानी के ज़रिए. शायद ऐसा भी हो क इसमें डिस्टिल्ड की जगह नल का पानी इस्तेमाल हो रहा हो या बॉटल ठीक से स्टेरायल नहीं हो रहे हैं. ENT सर्जन प्रशांत केवले कहते हैं, ‘भारत-महाराष्ट्र में जो स्ट्रेन हम देख रहे हैं वो भी एक फ़ैक्टर है जिससे ब्लैक फ़ंगस को बढ़ावा मिला है लेकिन ऑक्सीजन और डिस्टिल्ड वॉटर भी फ़ैक्टर है.’ ये फंगस हवा, नमी वाली जगह, मिट्टी, सीलन भरे कमरों आदि में पाया जाता है. स्वस्थ लोगों को फ़िक्र की ज़रूरत नहीं लेकिन जिनकी इम्यूनिटी कमजोर है उन्हें ब्लैक फ़ंगस का खतरा है. 

बच्चों के लिए जल्द आएगी वैक्सीन! कोवैक्सीन को ट्रायल की इजाजत

[ad_2]
[ad_1]

Source link

Leave a comment