केरल में LDF ने तोड़ा सत्ता बदलने का मिथक, करिश्माई पिनाराई विजयन ने कैसे 600 से 570 वादे पूरे कर बदल दी तस्वीर, जानिए 10 बातें - SARKARI JOB INDIAN

केरल में LDF ने तोड़ा सत्ता बदलने का मिथक, करिश्माई पिनाराई विजयन ने कैसे 600 से 570 वादे पूरे कर बदल दी तस्वीर, जानिए 10 बातें

[ad_1]
[ad_1]

1. हर साल प्रगति रिपोर्ट जारी की

विजयन ने पारदर्शिता और जवाबदेही की सरकार के लिए नई पहल करते हुए हर साल प्रगति रिपोर्ट जारी करने की पहल चलाई. इसमें हर मंत्रालय के कामकाज का प्रदर्शन की समीक्षा की गई.

2. 600 में से 570 वादे पूरे किए

चुनावी घोषणापत्र के पूरे किए गए वादों का जिक्र था. दिसंबर 2020 तक 600 चुनावी वादों में 570 पूरे कर विजयन ने इतिहास रचा. इन सभी वादों का केरल में एलडीएफ ने 2016 में जिक्र किया था. 

3. नवा केरलम का सपना साकार किया

विजयन ने चार मिशन लाइफ, अराद्रम, हरिता केरलम और एजुकेशन मिशन चलाए. लाइफ के तहत दो लाख से ज्यादा बेघरों के घर बनवाए. हरिता के तहत तालाब, झीलों और नदियों की सफाई का अभियान चला. एजुकेशन मिशन में 1 हजार स्कूलों को अंतराष्ट्रीय स्तर का बनाया गया.

4. ट्रांसजेंडर को आरक्षण

केरल देश का पहला राज्य है, जिसने ट्रांसजेंडर को मेट्रो, ग्रेजुएशन-पीजी में आरक्षण दिया. ऐसी पहल के जरिये विजयन ने ट्रांसजेंडर समाज की अलग छवि पेश की.

5. देश में पहली बार पिंक पेट्रोल

देश में पहली बार केरल में पूरे महिला पुलिस दल वाले पिंक पेट्रोल का गठन किया गया. इसे महिला-बच्चों की सुरक्षा का जिम्मा संभाला. विजयन के कार्यकाल में ही केरल पूरी तरह से विद्युतीकरण और पूर्णतया खुले में शौच से मुक्त राज्य बना. 

6. केरल बैंक, केरल प्रशासनिक सेवा

विजयन के कार्यकाल में केरल बैंक और केरल प्रशासनिक सेवा की शुरुआत हुई. फिलामेंट फ्री स्टेट के तौर पर हर घर एलईडी बल्ब बांटे गए. 

7. संकटमोचक की छवि

विश्लेषकों के मुताबिक, विजयन संकटमोचक की भूमिका भी अच्छे से निभाई. 2017 के साइक्लोन ओक्ची, 2018 में निपाह वायरस, 2018-19 की भयंकर बाढ़और 2020 में कोरोना वायरस के नियंत्रण में उनकी क्राइसिस मैनेजर की भूमिका को सराहा गया.

8. गोल्ड स्मगलिंग केस में कड़ा रुख

विजयन का नाम 2020 के गोल्ड स्मगलिंग केस में भी उछला. उनके प्रधान सचिव को गिरफ्तार किया गया. मगर विजयन ने केंद्रीय एजेंसियों को आरोप सिद्ध करने की सीधी चुनौती दी. 

9. दो बार के विधायकों को बदला

विजयन की अगुवाई में लेफ्ट ने इस बार दो बार से विधायक रहे सभी पार्टी नेताओं के टिकट बदल दिए. इससे सत्ता विरोधी भावनाओं को शांत करने में वो सफल रहे

10. कांग्रेस को उसके गढ़ में घेरा

विजयन ने मुस्लिम और ईसाई बहुल इलाकों के कांग्रेस के गढ़ में भी सघन प्रचार किया. इसका असर देखने को मिला कि यूडीएफ में शामिल और हर बार अच्छा प्रदर्शन करने  वाले इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग के उम्मीदवार भी पिछड़ गए.

[ad_2]
[ad_1]

Source link

Leave a comment