कोरोना वैक्सीन की डोज में कम अंतर डेल्टा वेरिएंट के खिलाफ ज्यादा प्रभावी : लैंसेट - SARKARI JOB INDIAN

कोरोना वैक्सीन की डोज में कम अंतर डेल्टा वेरिएंट के खिलाफ ज्यादा प्रभावी : लैंसेट

[ad_1]
[ad_1]

कोरोना वैक्सीन की डोज में कम अंतर डेल्टा वेरिएंट के खिलाफ ज्यादा प्रभावी : लैंसेट

भारत में टीकाकरण अभियान जारी है. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: द लैंसेट (The Lancet) जर्नल ने एक नए अध्ययन में कहा है कि फाइजर कंपनी की वैक्सीन (Pfizer Covid-19 Vaccine) कोरोनावायरस के डेल्टा वेरिएंट (Delta Variant) के खिलाफ बहुत कम प्रभावी है. कोरोनावायरस के मूल रूप की तुलना में यह वेरिएंट ज्यादा खतरनाक है. अध्ययन में कहा गया है कि वैक्सीन की डोज में अगर कम अंतर होता है तो यह डेल्टा वेरिएंट के खिलाफ ज्यादा प्रभावी होगा. अध्ययन में कहा गया है कि वेरिएंट के प्रति एंटीबॉडी प्रतिक्रिया उन लोगों में और भी कम है, जिन्हें सिर्फ एक खुराक मिली है और खुराक के बीच ज्यादा अंतर डेल्टा वेरिएंट के खिलाफ एंटीबॉडी को काफी कम कर सकता है.

यह भी पढ़ें

यह ब्रिटेन में टीकों के बीच खुराक के अंतर को कम करने के लिए वर्तमान योजनाओं का समर्थन करता है क्योंकि उन्होंने पाया कि फाइजर वैक्सीन की सिर्फ एक खुराक के बाद, लोगों में बी.1.617.2 वेरिएंट के खिलाफ एंटीबॉडी स्तर विकसित होने की संभावना उतनी ही कम है, जितनी पहले प्रभावी B.1.1.7 (अल्फा) वेरिएंट के खिलाफ देखी गई, जो पहली बार केंट में पाया गया था.

12 से 15 साल के बच्‍चों के लिए Pfizer की वैक्सीन को ब्रिटेन में मिली मंजूरी : न्यूज एजेंसी AFP

शोधकर्ताओं ने ध्यान दिया कि यह सुनिश्चित करना सबसे महत्वपूर्ण है कि अधिक से अधिक लोगों को अस्पताल से बाहर रखने के लिए टीके की सुरक्षा पर्याप्त बनी रहे.

UCLH इंफेक्शियस डिजीज कंसल्टेंट और सीनियर क्लिनिकल रिसर्च फेलो एमा वॉल वैक्सीन की डोज के कम अंतर को लेकर कहती हैं, ‘हमारे नतीजे बताते हैं कि ऐसा करने का सबसे अच्छा तरीका है कि जल्दी से दूसरी खुराक दी जाए और उन लोगों को बूस्टर मुहैया कराया जाए, जिनकी इम्युनिटी इन नए वेरिएंट के मुकाबले ज्यादा नहीं हो सकती है.’

कोविड-19 की वैक्सीन लगवाना क्यों है जरूरी, रिसर्च में सामने आई चौंका देने वाली जानकारी

ब्रिटेन में फ्रांसिस क्रिक इंस्टीट्यूट के शोधकर्ताओं के नेतृत्व में टीम ने पाया कि अकेले एंटीबॉडी के स्तर वैक्सीन की प्रभावशीलता की भविष्यवाणी नहीं करते हैं. इसके लिए संभावित जनसंख्या अध्ययन की भी जरूरत है. उन्होंने कहा कि कम निष्क्रिय एंटीबॉडी का स्तर अभी भी कोरोना से सुरक्षा से जुड़ा हो सकता है.

VIDEO: कोरोना से देश में करीब 1000 डॉक्टरों की मौत, कैसे रुके यह सिलसिला?

[ad_2]
[ad_1]

Source link

Leave a comment