दिल्ली में पॉजिटिविटी रेट 5% के करीब, क्या दिल्ली फिर से खुलेगी? जानें अरविंद केजरीवाल ने क्या कहा.. - SARKARI JOB INDIAN

दिल्ली में पॉजिटिविटी रेट 5% के करीब, क्या दिल्ली फिर से खुलेगी? जानें अरविंद केजरीवाल ने क्या कहा..

[ad_1]
[ad_1]

दिल्ली में पॉजिटिविटी रेट 5% के करीब, क्या दिल्ली फिर से खुलेगी? जानें अरविंद केजरीवाल ने क्या कहा..

दिल्ली में लॉकडाउन हटाने पर सप्ताह के अंत सीएम केजरीवाल एलजी से करेंगे चर्चा। (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में कोरोना की कम होती रफ्तार के बीच लॉकडाउन हटाने की बातों ने जोर पकड़ लिया है. दिल्ली में पॉजिटिविटी रेट लगभग 5% तक आ गया है. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल सप्ताह के अंत में उपराज्यपाल अनिल बैजल के लॉकडाउन हटाने पर चर्चा करेंगे. कोरोना के बढ़ते मामलों के चलते दिल्ली में पिछले महीने लॉकडाउन घोषित किया गया था. सीएम केजरीवाल ने बीते सप्ताह सप्ताह लॉकडाउन को आगे बढ़ाने का निर्णय लिया था. उन्होंने कहा था कि पॉजिटिविटी रेट कम हो रही है, विशेषज्ञों ने इसे 5 प्रतिशत पहुंचने तक प्रतीक्षा करने की सलाह दी है. इस स्थिति में लॉकडाउन न हटाकर थोड़ा और इंतजार करना चाहिए ताकि हालात और सुधर जाएं.

यह भी पढ़ें

आज लॉकडाउन हटाने के संबंध में जब सीएम केजरीवाल से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि सप्ताह के अंत में मैं एलजी से बात करूंगा. उन्होंने कहा, ”एलजी सर से जो भी चर्चा होगी और जो भी फैसला होगा, हम आपको बताएंगे.”

कहीं दूषित ऑक्सीजन तो नहीं ब्‍लैक फंगस मामले बढ़ने का कारण!, विशेषज्ञों ने जताया अंदेशा

ब्लैक फंगस पर दिल्ली सरकार सख्त

ब्लैक फंगस से बढ़ते मामलों को देखते हुए सीएम अरविंद केजरीवाल ने सभी होस्पिटल और डॉक्टर से अपील की है कि स्टेरॉयड का कम से कम इस्तेमाल करें. मरीज अपनी शुगर का खास ध्यान रखें. स्टेरॉयड और शुगर का मिश्रण होकर ब्लैक फंगस ज्यादा हो रहा है. इसके बारे में हम जनता को जागरुक भी करेंगे. इसके लिए डॉक्टरों की इंटर डिसीप्लिनरी कमिटी बनाने की जरूरत है जो मरीज का ख्याल रखेंगे. सीएम ने कहा कि ब्लैक फंगस के मरीजों का इलाज करने के लिए सरकारी अस्पतालों एलएनजेपी जीटीबी और राजीव गांधी हॉस्पिटल में विशेष इंतजाम किए हैं. 

भारत में कोरोना टीकाकरण की रफ्तार और धीमी पड़ी, इस हफ्ते का औसत दो महीने में सबसे कम रहा

इंजेक्शन पर सवाल पूछे जाने पर केजरीवाल ने कहा कि इंजेक्शन की बहुत ज्यादा कमी है. हमने केंद्र सरकार को लिखा है. ब्लैक फंगस के इलाज में इस्तेमाल होने वाली इंजेक्शन की प्रोडक्शन केंद्र सरकार हाथ में है. हमें पूरी उम्मीद है कि केंद्र सरकार जितने भी इंजेक्शन की जरूरत होगी हमको देगी. जिसको भी इस बीमारी के इलाज के लिए इंजेक्शन चाहिए उसके लिए हमने डॉक्टरों की टीम बनाई है, वही तय करेंगे कि किसे इंजेक्शन देना है. डॉक्टरों की टीम के पास कल तक 84 आवेदन आए थे. अलग-अलग होस्पिटल से सुनने में आ रहा है कि दिल्ली में ब्लैक फंगस के 200 के ऊपर मामले हैं.

ब्लैक फंगस पर सीएम केजरीवाल ने अधिकारियों और विशेषज्ञों के साथ की चर्चा

[ad_2]
[ad_1]

Source link

Leave a comment