धरने पर बैठे किसानों में कोरोना से पहली मौत, टिकरी बार्डर पर 25 साल की महिला की संक्रमण ने ली जान - SARKARI JOB INDIAN

धरने पर बैठे किसानों में कोरोना से पहली मौत, टिकरी बार्डर पर 25 साल की महिला की संक्रमण ने ली जान

[ad_1]
[ad_1]

एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘उन्हें 26 अप्रैल को बुखार हुआ, जिसके बाद उन्हें जीएच बहादुरगढ़ अस्पताल ले जाया गया, लेकिन वहां उन्हें बेड नहीं मिला. जिसके बाद उन्हें पीजीआईएमएस रोहतक ले जाया गया, वहां भी अस्पताल फुल था. फिर उन्हें बहादुरगढ़ के शिवम अस्पताल के कोरोना वार्ड में भर्ती कराया गया.’ महिला की शुक्रवार सुबह मौत हुई है.

अपोलो समेत इन अस्पतालों में कल से 18 साल से अधिक उम्र के लोगों को लगेगी कोरोना वैक्सीन

हरियाणा के डीजीपी मनोज यादव ने एनडीटीवी को बताया, ‘उनके परिजन वहां थे और उन्हें पता था कि वह कोरोना से संक्रमित हैं. उनका अंतिम संस्कार आज बहादुरगढ़ में किया गया.’

टिकरी बॉर्डर पर धरने पर बैठे बीकेयू एकता के सिंगारा सिंह मान ने बताया, ‘हमें भी इस बारे में पता चला, लेकिन हम कोरोना प्रोटोकॉल का पालन कर रहे हैं.’ बता दें, टिकरी बॉर्डर पर करीब 16 हजार किसान तो सिंघू बॉर्डर पर करीब आठ हजार किसान धरने पर बैठे हैं. 

कोरोना से जंग : गुरुग्राम सहित हरियाणा के 9 जिलों में वीकेंड लॉकडाउन का ऐलान

हरियाणा के डीजीपी ने बताया, ‘किसानों के ग्रुप आते जाते रहते हैं, कोई आ रहा है, तो कोई जा रहा है. हमने उनसे कोरोना टेस्ट कराने के लिए कहा था. किसानों के साथ हमने बैठक भी की थी और कहा था कि आप लोग कोरोना जांच करा लिजिए, लेकिन उन्होंने हमारी बात नहीं मानी.’ उनके मुताबिक कई बैठकों के साथ प्रशासन ने उनकी जांच के लिए कैंप लगाए थे, लेकिन उन्होंने मना कर दिया. 

एसपी जेएस रंधावा ने एनडीटीवी से फोन पर बात करते हुए बताया, ‘हमने पिछले सप्ताह भी उनके साथ तीन बैठक की थी, लेकिन उन्होंने जांच के लिए मना कर दिया, हालांकि, कोरोना वैक्सीन लगवाने के लिए मान गए हैं. अब तक लगभग 1500 लोगों को कोरोना का वैक्सीन लगाया जा चुका है.’ साथ ही उन्होंने बताया कि प्रशासन ने सिंघू बॉर्डर के पास एक ढाबे पर वैक्सीनेशन सेंटर भी खोल दिया है. 

कोरोना की दूसरी लहर के बीच बंगाल ने किया आंशिक लॉकडाउन का ऐलान,जरूरी चीजों की होम डिलीवरी की रहेगी इजाजत

हालांकि, किसान नेताओं का कहना है कि लोग जांच कराना चाहते हैं या नहीं, यह फैसला उन्हीं पर छोड़ दिया है. पीएलएस मंच के स्टेट प्रेसिडेंट अमोलक सिंह ने बताया, ‘हम किसी के साथ जबरदस्ती नहीं कर सकते, यह सभी की व्यक्तिगत च्वाइस है. वहीं, वैक्सीनेशन की बात करे तो उसके लिए हम प्रशासन का सहयोग कर रहे हैं और लोगों से टीका लगवाने के लिए कह रहे हैं.’

कोरोना : 400 जिलों में संक्रमण ज्यादा, राज्यों को सख्त कदम उठाने के निर्देश

[ad_2]
[ad_1]

Source link

Leave a comment