पंचायत से लेकर संसद तक देश की सेवा कर रही हैं महिलाएं : लोकसभा स्‍पीकर - SARKARI JOB INDIAN

पंचायत से लेकर संसद तक देश की सेवा कर रही हैं महिलाएं : लोकसभा स्‍पीकर

[ad_1]

पंचायत से लेकर संसद तक देश की सेवा कर रही हैं महिलाएं : लोकसभा स्‍पीकर

लोकसभा स्‍पीकर ने कहा, महिलाओं ने सामाजिक परिवर्तन लाने में सकारात्मक योगदान किया है

खास बातें

  • महिला सांसदों और महिला पत्रकारों से की मुलाकात
  • सामाजिक बदलाव में महिलाओं के योगदान को सराहा
  • कहा, देश की उन्‍नति तभी संभव जब महिलाएं हर क्षेत्र में भागीदारी करें

नई दिल्ली: लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला (Om Birla) ने एक अनूठी पहल करते हुए अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर महिला सांसदों और महिला पत्रकारों से मुलाकात की. संसद भवन परिसर में आयोजित इस कार्यक्रम में उन्‍होंने कहा कि महिलाएं सामाजिक राजनीतिक और आर्थिक क्षेत्रों में उच्च पदों पर पर बहुत अच्छा कार्य कर रही हैं. महिलाओं ने सामाजिक परिवर्तन लाने में उत्कृष्ट और सकारात्मक योगदान किया है. उन्‍होंने कहा कि महिला पत्रकार लोकहित के मुद्दों को अधिक करुणा, दया और ममता के भाव के साथ उजागर करती हैं. इस अवसर पर केंद्रीय वित्त-कारपोरेट कार्य मंत्री निर्मला सीतारमण तथा केंद्रीय महिला एवं बाल विकास व वस्त्र मंत्री स्मृति जुबिन ईरानी भी मौजूद थीं.

महिलाओं का अभिनंदन करते हुए ओम बिरला ने समाज में उनके योगदान की सराहना की. लोकसभा अध्‍यक्ष ने कहा कि महिलाएं राष्ट्रपति, प्रधान मंत्री लोकसभा अध्यक्ष जैसे महत्वपूर्ण पदों पर कार्य करते हुए अग्रणी भूमिका निभाती रही हैं. उन्‍होंने कहा कि महिलाओं में योग्यता, धैर्य, आत्म विश्वास और दृढ़ इच्छाशक्ति है और इन गुणों के साथ वे पंचायत से लेकर संसद तक देश की सेवा कर रही हैं. महिला स्वतंत्रता सेनानियों और स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद राष्ट्र निर्माण में महिलाओं की भूमिका का उल्लेख करते हुए बिरला ने कहा कि देश का विकास और उन्नति तभी संभव है जब महिलाएं राष्ट्र निर्माण के प्रत्येक क्षेत्र में भागीदारी करें. लोकसभा अध्यक्ष ने यह भी कहा कि वर्तमान लोकसभा अर्थात 17वीं लोकसभा में महिला सांसदों की संख्या सबसे अधिक है. उन्होंने सभा में महिला सांसदों के कार्य तथा वाद-विवाद में उनकी अर्थपूर्ण भागीदारी की सराहना की.

महिला पत्रकारों के बारे में बात करते हुए ओम बिरला ने कहा कि पत्रकारिता एक चुनौतीपूर्ण और कठिन कार्य है और महिलाएं अपनी योग्यता और साहस के साथ ही लोकहित के मुद्दों के प्रति करुणा और दया के भावों के कारण इस चुनौतीपूर्ण कार्य को सफलतापूर्वक कर रही हैं. महिलाओं ने अपनी रिपोर्टिंग के माध्यम से समाज के वंचित वर्गों और समाज के सबसे निचले पायदान पर खड़े व्यक्ति की समस्याओं को उजागर करते हुए सरकार का ध्यान इस ओर आकर्षित किया है ताकि उनकी समस्याओं का समाधान हो सके. लोकसभा की कार्यवाही आरंभ होने पर बिरला ने संसद सदस्यों को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर बधाई दी. उन्‍होंने कहा कि आज का दिन महिलाओं की उपलब्धियों तथा राष्ट्र और समाज के प्रति उनके योगदान को स्मरण करने का दिन है. इसके बाद बिरला ने लोकसभा सचिवालय की महिला अधिकारियों-कर्मचारियों के साथ मुलाकात की तथा सभा के निर्विघ्न संचालन में उनके योगदान को सराहा.

[ad_2]

Source link

Leave a comment