ब्लैक फंगस का इंजेक्शन लगाते ही 27 मरीजों की हालत बिगड़ी, बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में मचा हड़कंप - SARKARI JOB INDIAN

ब्लैक फंगस का इंजेक्शन लगाते ही 27 मरीजों की हालत बिगड़ी, बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में मचा हड़कंप

[ad_1]
[ad_1]

ब्लैक फंगस का इंजेक्शन लगाते ही 27 मरीजों की हालत बिगड़ी, बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में मचा हड़कंप

Bundelkhand Medical College के पीआरओ Dr. Umesh Patel ने कहा, मरीजों की हालत अब स्थिर

सागर: मध्य प्रदेश के बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में ब्लैक फंगस के मरीज़ों को शनिवार को एम्फोटेरेशिन-बी इंजेक्शन लगते ही उनकी तबियत बिगड़ गई, अस्पताल में ब्लैक फंगस के 42 मरीज भर्ती हैं. इंजेक्शन लगाते ही वार्ड में 27 मरीजों की हालत बिगड़ने लगी. उन्हें बुखार और उल्टी समेत कई तरह की शिकायतें होने लगी. इस घटना के बाद अस्पताल प्रबंधन ने फौरन इंजेक्शन लगाना बंद कर दिया.  मरीजों को शासन की तरफ से भेजे गए एम्फोटेरेशिन-बी इंजेक्शन (Amphotericin-B Injections)ही लगाए गए थे. मेडिकल कॉलेज के पीआरओ डॉ. उमेश पटेल ने कहा कि इंजेक्शन लगाए जाने के बाद 27 मरीजों को कुछ समस्याएं सामने आई थीं. मध्य प्रदेश के सागर जिले में स्थित बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज (Bundelkhand Medical College) में यह घटना हुई. 

यह भी पढ़ें

ब्लैक फंगस के मरीजों की संख्या क्यों नहीं बताती है सरकार?

दरअसल, कोरोना मरीजों में ब्लैक फंगस के मामले लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं. दिल्ली, महाराष्ट्र, गुजरात, बिहार, एमपी समेत लगभग सभी बड़े कोरोना प्रभावित राज्यों में ब्लैक फंगस से संक्रमित मरीजों के मामले सामने आए हैं. दूषित ऑक्सीजन, स्टेरॉयड का ज्यादा सेवन जैसी कई वजहें ब्लैक फंगस की बताई जा रही हैं, लेकिन डॉक्टर और स्वास्थ्य एजेंसियां अभी किसी ठोस नतीजे पर नहीं पहुंची हैं. ब्लैक फंगस मरीज की नाक, गले से लेकर मस्तिष्क तक पहुंच जाता है. कई संक्रमित मरीजों की जान बचाने के लिए उनकी आंख तक निकालनी पड़ी है. 

[ad_2]
[ad_1]

Source link

Leave a comment