हर मरीज़ को Remdesivir देना ज़रूरी नहीं : दिल्ली AIIMS के निदेशक डॉ रणदीप गुलेरिया

[ad_1]
[ad_1]

हर मरीज़ को Remdesivir देना ज़रूरी नहीं : दिल्ली AIIMS के निदेशक डॉ रणदीप गुलेरिया

AIIMS (दिल्ली) के निदेशक डॉ रणदीप गुलेरिया ने रेमडेसिविर और कोरोना महामारी पर एनडीटीवी से खास बातचीत की

NDTV Solutions Summit में AIIMS (दिल्ली) के निदेशक डॉ रणदीप गुलेरिया ने कहा, “हमें ज़्यादा सतर्क रहना चाहिए था… कोरोना केस काफी कम हो गए थे, और वैक्सीन के आने पर लापरवाही बरती गई… मेरा यह मानना है कि अब सबसे पहले संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए कदम उठाने चाहिए… जहां-जहां केस ज़्यादा हों, सख्त कन्टेनमेंट होना चाहिए… भीड़ एकत्र न होने दें… वैक्सीन को बूस्ट दें…”

यह भी पढ़ें

उन्होंने आगे कहा कि “ज़्यादा से ज़्यादा टीकाकरण होना चाहिए… इलाज की शुरुआत में ही स्टेरॉयड नहीं दिया जाना चाहिए, रेमडेसिविर भी हर मरीज़ को नहीं देनी चाहिए, क्योंकि इलाज में दवा ही नहीं, दवा दिए जाने का समय भी बेहद अहम होता है…

अब ज़ीरो-टॉलरैन्स होना चाहिए : महाराष्ट्र कोविड टास्क फोर्स के डॉ शशांक जोशी

 महाराष्ट्र कोविड टास्क फोर्स के डॉ शशांक जोशी ने कहा, “हालात बेहद गंभीर हो गए हैं… अब ज़ीरो-टॉलरैन्स होना चाहिए… नियम नहीं मानने वालों पर कार्रवाई होनी चाहिए…”

इस वक्त सारा ध्यान बिस्तरों की कमी, दवाओं की किल्लत पर होना चाहिए : डॉ जलील पारकर

मुंबई के लीलावती अस्पताल के डॉ जलील पारकर ने NDTV Solutions Summit में मुंबई के लीलावती अस्पताल के डॉ जलील पारकर ने कहा, “हमारे पास सीमित संसाधन हैं… इस वक्त हमें वायरस के वेरिएन्ट पर रिसर्च से ज़्यादा ध्यान बिस्तरों की कमी, दवाओं की किल्लत पर देना चाहिए…”

ऑक्सीजन स्तर कम हो, तभी अस्पताल जाएं : पब्लिक फाउंडेशन इंडिया के अध्यक्ष डॉ श्रीनाथ रेड्डी

पब्लिक फाउंडेशन इंडिया के अध्यक्ष डॉ श्रीनाथ रेड्डी ने कहा, “हर मरीज़ को अस्पताल जाने की ज़रूरत नहीं… इलाज घर पर ही हो सकता है… लेकिन अगर ऑक्सीजन का स्तर 94 फीसदी से कम हो जाए, तो अस्पताल ज़रूर जाएं…”

[ad_2]
[ad_1]

Source link

Leave a comment