'10वीं, 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं रद्द करें', केंद्र सरकार को प्रियंका गांधी वाड्रा की चिट्ठी - SARKARI JOB INDIAN

’10वीं, 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं रद्द करें’, केंद्र सरकार को प्रियंका गांधी वाड्रा की चिट्ठी

[ad_1]
[ad_1]

'10वीं, 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं रद्द करें', केंद्र सरकार को प्रियंका गांधी वाड्रा की चिट्ठी

प्रियंका गांधी वाड्रा ने 10वीं और 12वीं की CBSE बोर्ड परीक्षाएं रद्द करने का आग्रह किया है.

नई दिल्ली: कांग्रेस (Congress) महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) ने केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक (Ramesh Pokhariyal Nishank) से कक्षा 10वीं और 12वीं के सीबीएसई स्कूल के छात्रों की बोर्ड परीक्षाओं पर फिर से विचार करने का आग्रह किया है क्योंकि देश में रोजाना नए कोविड मामलों की संख्या- 1.5 लाख से अधिक है.

यह भी पढ़ें

प्रियंका गांधी वाड्रा जो अपने पति रॉबर्ट वाड्रा के बाद अपने दिल्ली घर में आइसोलेशन में रह रही हैं, पिछले दिनों वह कोरोनोवायरस पॉजिटिव पाई गई थीं.  उन्होंने पोखरियाल को पूरे भारत में लाखों बच्चों और माता-पिता के “भय और आशंकाओं” को रेखांकित करने के लिए लिखा है और बड़ी संख्या में लोगों के इकट्ठा होने पर वयस्कों को चेतावनी देने जबकि बच्चों को ऐसा करने के आदेश को विरोधाभास बताया है.

प्रियंका गांधी वाड्रा ने CBSE को लगाई फटकार, कहा – बोर्ड परीक्षाएं रद्द हों या फिर…

शिक्षा मंत्री को लिखे पत्र में वाड्रा ने लिखा है, “… छात्रों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए व्यावहारिक रूप से यह असंभव है… जोखिम सिर्फ छात्रों के लिए नहीं है बल्कि उनके शिक्षक, निरीक्षक और परिवार के सदस्य भी जोखिम में होंगे… जैसा कि हरेक राज्य दिशा-निर्देश जारी कर बड़ी संख्या में लोगों के पब्लिक प्लेसेज पर इकट्ठा होने से रोक रहे हैं  फिर हम बच्चों को ऐसा करने के लिए मजबूर कर किस नैतिक आधार पर खड़े हो सकते हैं… ”

उन्होंने अपनी चिट्ठी सोशल मीडिया पर भी साझा की हैं और लिखा है,  “देश भर में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच छात्रों व उनके अभिवावकों ने CBSE परीक्षा 2021 को लेकर कुछ वाजिब चिंताएं जाहिर की हैं.. मैंने शिक्षा मंत्री @DrRPNishank को पत्र लिखकर उनपर गंभीरता से पुनर्विचार करने को कहा है.”

Covid-19: दिल्ली सरकार ने स्कूलों को कहा, 20 अप्रैल तक स्थगित करें प्रैक्टिकल परीक्षाएं

उन्होंने आगे लिखा है, “इसके अलावा (वायरस फैलने का खतरा), बच्चों को एक उग्र महामारी के दौरान इन परीक्षाओं में बैठने के लिए मजबूर करके, सरकार और CBSE बोर्ड को किसी भी परीक्षा केंद्र के (कोविड) हॉटस्पॉट बनने के लिए जिम्मेदार ठहराया जाएगा.”  उन्होंने जोर देकर कहा, “वे मौजूदा परिस्थितियों में परीक्षा को रद्द करने का अनुरोध कर रही हैं.”



[ad_2]
[ad_1]

Source link

Leave a comment