Chandra Grahan 2021: भारत में आज इस समय लगेगा साल का पहला चंद्र ग्रहण, जानिए क्यों बंद नहीं होंगे मंदिरों के कपाट - SARKARI JOB INDIAN

Chandra Grahan 2021: भारत में आज इस समय लगेगा साल का पहला चंद्र ग्रहण, जानिए क्यों बंद नहीं होंगे मंदिरों के कपाट

[ad_1]
[ad_1]

भारत में किस समय लगेगा चंद्र ग्रहण?

भारतीय समय के अनुसार, चंद्र ग्रहण आज दोपहर 2:17 मिनट पर शुरू होगा और  शाम 7:19 बजे तक खत्म होगा.

कहां दिखेगा चंद्र ग्रहण?

चंद्र ग्रहण 2021 उत्तरी/दक्षिण अमेरिका, उत्तरी यूरोप, पूर्वी एशिया, ऑस्ट्रेलिया, अटलांटिक, हिंद महासागर , अंटार्कटिका और प्रशांत महासागर के क्षेत्रों में देखा जा सकेगा. हालांकि भारत में चंद्र ग्रहण उपछाया की तरह ही दिखेगा. 

कितने प्रकार के होते हैं चंद्र ग्रहण?

चंद्र ग्रहण तीन प्रकार के होते हैं

– पूर्ण चंद्र ग्रहण

– आंशिक चंद्र ग्रहण

– उपछाया चंद्र ग्रहण

आज चंद्र ग्रहण में सूतक काल लगेगा?

इस बार भारत में चंद्र ग्रहण उपछाया की तरह ही दिखेगा. इस वजह से सूतक काल मान्य नहीं होगा, यही वजह है कि इस चंद्र ग्रहण में देश के मंदिरों के कपाट भी बंद नहीं किए जाएंगे और शुभ कार्यों पर भी रोक नहीं होगी.   

उपछाया ग्रहण क्या होते है?

पूर्ण और आंशिक ग्रहण के अलावा एक उपछाया  ग्रहण भी होता है. चंद्रमा जब पृथ्वी की वास्तविक छाया में नहीं आता है और उसकी उपछाया से ही बाहर निकल जाता है, ऐसे ग्रहण को उपछाया ग्रहण कहते हैं. उपछाया ग्रहण को वास्तविक चंद्र ग्रहण नहीं माना जाता है. इस ग्रहण में चंद्रमा के रंग और आकार में भी कोई बदलाव नहीं होता है.  हालांकि, इसमें चंद्रमा पर एक धुंधली सी छाया नजर आती है. 

बता दें कि कोई भी चन्द्र ग्रहण जब भी आरंभ होता है तो ग्रहण से पहले चंद्रमा पृथ्वी की परछाई में प्रवेश करता है, जिससे उसकी छवि कुछ मंद पड़ जाती है तथा चंद्रमा का प्रभाव मलीन पड़ जाता है. जिसे उपच्छाया कहते हैं. इस दिन चंद्रमा पृथ्वी की वास्तविक कक्षा में प्रवेश नहीं करेंगे अतः इसे ग्रहण नहीं कहा जाएगा.

वास्तविक चंद्र ग्रहण क्या है?

चंद्रमा और सूरज के बीच जब पूरी तरह से पृथ्वी आ जाती है और सूरज की रोशनी को चंद्रमा तक पहुंचने से रोक देती है तो इसे वास्तविक चंद्र ग्रहण कहा जाता है. इस स्थिति में चंद्रमा की सतह पूरी तरह से लाल हो जाती है.

कैसे लगता है ग्रहण?

यह एक खगोलीय घटना है. इस दौरान चंद्रमा और सूरज के बीच पृथ्वी आ जाती है और सूरज की रोशनी चांद पर नहीं पड़ पाती है. ऐसे में पृथ्वी की छाया चांद पर पड़ती है. चंद्र ग्रहण को लोग चाहें तो नंगी आंखों से देख सकते हैं लेकिन सूर्य ग्रहण को नंगी आंखों से देखने पर नुकसान पहुंच सकता है. 

क्या होता है ब्लड मून?

ग्रहण के दौरान चंद्रमा के लाल और नारंगी रंग के दिखने के कारण पूर्ण चंद्र ग्रहण को अक्सर ब्लड मून कहा जाता है.  ब्लड मून तब दिखाई देता है, जब चंद्रमा पृथ्वी की छाया में छिप जाता है और आकाश में लाल रंग की रोशनी नज़र आती है. वहीं, सुपरमून शब्द का मतलब चंद्रमा का सामान्य से बड़ा दिखना होता है. 

[ad_2]
[ad_1]

Source link

Leave a comment