IIMC: भारत में जर्नलिज्म एजुकेशन के 100 साल पूरे होने पर, आमंत्रित किए गए रिसर्च पेपर - SARKARI JOB INDIAN

IIMC: भारत में जर्नलिज्म एजुकेशन के 100 साल पूरे होने पर, आमंत्रित किए गए रिसर्च पेपर

[ad_1]
[ad_1]

IIMC ने कहा, “मीडिया जर्नलिज्म एजुकेशन के 100 साल के दौरान कई मील के पत्थर बनाए गए हैं, जो लोक संचार से प्रिंट और प्रिंट से ऑनलाइन मीडिया तक के डेवलपमेंट के 10 दशक  की गवाही देते हैं. ऐसे मे इंपॉर्टेंट मीडिया प्रोफेशनल्स , कम्युनिकेटर , अकैडमिशन से रिसर्च पेपर मांगे जाते हैं.

बता दें, 15 मई को या उससे पहले पब्लिकेशन डिपार्टमेंट के हेड और जर्नल के एडिट प्रोफेसर वीरेंद्र कुमार भारती को पेपर्स भेजे जाने हैं.

रिसर्च पेपर के लिए ये हैं विषय

1 भारत में मीडिया शिक्षा की यात्रा: संचार में एक बदलाव.

2 भारत में मीडिया शिक्षा: क्रांति का विकास.

3 भारत और दक्षिण एशिया में मीडिया शिक्षा.

4 मीडिया शिक्षा का भारतीयकरण.

5 मीडिया शिक्षा: मिथक या वास्तविकता.

6 मीडिया शिक्षा में चुनौतियां और अवसर.

7 कॉसरोड पर मीडिया शिक्षा.

8 मीडिया शिक्षा: 21 वीं सदी की आवश्यकता.

9 मीडिया शिक्षा में अंतराल.

10 मीडिया शिक्षा के नायक.

11 संचार शिक्षा बनाम मीडिया शिक्षा.

12 मुक्त विश्वविद्यालयों के माध्यम से मीडिया शिक्षा.

13 मीडिया हाउस के माध्यम से पत्रकारिता और मीडिया शिक्षा.

14 क्षेत्रीय भाषाओं में मीडिया शिक्षा का प्रभाव.

15 उपभोक्ताओं, निर्माताओं और नीति निर्माताओं के लिए मीडिया शिक्षा.

16 मीडिया शिक्षा की भूमिका और प्रभाव.

17 मीडिया शिक्षा में डिजिटल लर्निंग का प्रभाव.

18 मीडिया शिक्षा में बहु-विषयक दृष्टिकोण.

19 मीडिया शिक्षा में शैक्षणिक उत्कृष्टता के लिए संस्थानों के साथ सहयोग.

20 भारत में मीडिया शिक्षा का भविष्य.

21 भारत में पायनियर मीडिया शैक्षणिक संस्थान.

22 मीडिया संकाय प्रशिक्षण तंत्र.

23 मीडिया कोर्स करिकुलम शेपिंग प्रोफेशनल्स की एकरूपता.

24 महिलाओं को सशक्त बनाने में मीडिया शिक्षा की भूमिका.

25 पहुंच से बाहर होने में मीडिया शिक्षा का प्रभाव.

26 मीडिया शिक्षा के माध्यम से सामाजिक परिवर्तन.

27 पत्रकारिता और जनसंचार में प्रकाशन .

28 100 साल की मीडिया शिक्षा की यात्रा के दौरान विकास, 29 सांस्कृतिक, शिक्षा, धर्म, स्वास्थ्य, मनोरंजन, सिनेमा, रेडियो, टीवी और ऐसे अन्य मुद्दों पर पत्रों का उदय हुआ.

[ad_2]
[ad_1]

Source link

Leave a comment